आइए अपने आईक्यू (IQ) का परीक्षण करें। Let's test your IQ

चित्र
इन प्रश्नों में दो या अधिक वस्तुओं के परस्पर सम्बन्ध पर विचार किया जाता है। परस्पर सम्बन्ध पर आधारित ये प्रश्न निम्नलिखित प्रकार से पूछे गए हैं- शब्द-सम्बन्ध आधारित प्रथम प्रकार :- प्रथम प्रकार के प्रश्न में दो शब्द दिए जाते हैं,  जिनमें कोई सम्बन्ध नही होता है। प्रश्न में एक तीसरा शब्द भी दिया रहता है, जिसके लिए ऐसा चौथा शब्द ज्ञात करना होता है, जो तीसरे शब्द के साथ वही सम्बन्ध रखता हो जो प्रथम दो शब्दों में जैसे प्रकाश का अंधकार के साथ वही सम्बन्ध है जो विद्वान  के साथ? (a) चालाक (b) होनहार (c) मूर्ख (d) वाचाल उत्तर-(c) उपर्युक्त उदाहरण में प्रकाश का अंधकार के साथ  विपरीत सम्बन्ध है, अतः विद्वान के विपरीत अर्थ वाला शब्द ही उपयुक्त विकल्प होगा। स्पष्ट है कि विद्वान का विपरीतार्थक सही उत्तर होगा।

डोनाल्ड ट्रम्प ने दावा किया कि मोदी के साथ दोस्ती के कारण भारत US चुनाव में उनकी पार्टी को समर्थन करेगा टाइम्स ऑफ इंडिया न्यूज ।


2020 अपने आप मे एक अनोखा साल रहा है बहोत लंबे समय तक नही भूलोगे मगर इस साल का सबसे बड़ा इवेंट अभी बाकी है नवंबर 2020 में होंगे US प्रेसिडेंटल इलेक्शन यहां पर दो उमीदवार US प्रेसिडेंटल चुनाव के लिए खड़े है डेमोक्रैट के Joe Biden और रिपब्लिकन के Donald Trump. अभी के लिए जो वहा पर अनुमान लगाया जा रहा अबाउट इलेक्शन वहा पर The Economist और सारे मीडिया ये कह रहे है कि Joe Biden का जितने का चांस है 84% वही Donald Trump का जितने का शिर्फ़ 16% Click here to see US forecasting result.

ये जो जीत के परसेंटेज का अंतर दिख रहा है। Joe Biden और Donald Trump के बीच ये धीरे धीरे बढ़ा है जैसे जैसे COVID19 का डेथ का फिगर आ रहा है US में माना जा रहा है आने वाले कुछ महीने में 2 लाख तक की डेथ कन्फर्म हो जाएगी COVID19 महामारी के कारण।

इसके पहले 2016 के इलेक्शन में Hillary clinton के विरुद्ध Donald Trump जीते थे  पर वहा पर भी Donald Trump के जीतने का चान्स उस समय कम था लगभग 5 तो 10% ही था मगर उस वक़्त परिस्तिथि अलग थी Donald Trump नए कैंडिडेट थे और हो सकता है काफी बड़े जनसंख्या ने ये सोचा होगा की इस बार उन्हें चान्स दे के देखते है पर आज के समय 2020 मे अगर हम देखते है तो  परिस्तिथि काफी हद तक चेंज हो चुकी है। महामारी ने काफी हद तक लोगो के सोचने का तरीका बदल दिया है और US में दंगे भी हुए है और काफी सारे कारण है ।
यहां पर जो अनुमान लगाया जा रहा है उसे हम सही तरीके से तुलना नही कर सकते है 2016 के परिस्तिथि से l
Donald Trump इस समय काफी डेस्परेट है और डिस्प्रेशन में उन्होंने एक स्टेटमेंट हाल ही में दिया है कि "हमे सपोर्ट है इंडियन प्राइम मिनिस्टर मोदी का" यहां टाइम्स ऑफ इंडिया का आर्टिकल है। Click


इंडिया अभी तक चुप है US के इलेक्शन को ले कर।
ट्रम्प ने अपने स्टेटमेंट में कहा है कि “हमें भारत से बहुत समर्थन मिला है।  हमारे पास प्रधान मंत्री (नरेंद्र) का बहुत समर्थन है। मुझे लगता है कि भारतीय (भारतीय-अमेरिकी) लोग ट्रम्प के लिए मतदान करेंगे, "अमेरिकी राष्ट्रपति ने व्हाइट हाउस में पत्रकारों को बताया। उनका ये कहने का कारण भी है  2019 में US के राज्य टेक्सास में एक आयोजन हुआ था Howdy, Modi उस वक़्त इंडियन प्राइम मिनिस्टर मोदी ने ये स्टेटमेंट दी थी ' अबकी बार, ट्रम्प सरकार ': पीएम मोदी ने' होवडी, मोदी! 'पर ट्रम्प का समर्थन किया।' Click here for Outlook article Howdy Modi

हालांकि की उसके बाद इंडिया ने स्पष्ट ये किया पी म मोदी उस वक़्त  Donald Trump को 2020 के इलेक्शन के लिए समर्थन नही कर रहे थे वो बस बता रहे थे किस तरह 2016 इलेक्शन में ये लाइन यूज़ करी गई थी Donald Trump द्वारा इलेक्शन जीतने के लिए l हमे ये भी नही भूलना चाहिए की 2019 के समय इस्तिथि काफी डिफरेंट थी ये महामारी नही फैली हुई थी उसके अलावा US की इकॉनोमिक भी बहोत ज्यादा मजबूत थी और जॉब लोसेस भी नही हुआ था और बहोत जरूरी बात  हाल ही में US में जो दंगे हुए थे वैसी कोई घटना US में नही थी 

2019 से 2020 तक इस्तिथि बहोत हद तक बदल गई है Donald Trump , Joe Biden के सामने अभी के लिए काफी कमजोर उमीदवार दिख रहे हैl 

भारत के लिए एक मुश्किल मुद्दा आ गया है ट्रम्प का सीधा दावा है कि पी.एम.मोदी अमेरिका में उनका समर्थन कर रहे हैं इससे भारत का डेमोक्रेट के साथ संबंध खराब कर सकता है क्योंकि इंडिया ने अभी तक डोनाल्ड ट्रम्प के स्टेटमेंट को रिजेक्ट नही किया है  हमारी तरफ से कोई क्लेरिफिकेशन नही आया के इंडियन प्राइम मिनिस्टर किसी भी उमीदवार के सपोर्ट में नही है। इंडिया अभी के लिए इस स्टेटमेंट को ले कर चुप है

भारत के लिए ऐसे समय में जब ज्यादा संभावना है सत्ता में आने वाला एक डेमोक्रेट राष्ट्रपति, यह भारत के हितों के लिए हानिकारक हो सकता है। एक और ध्यान देने वाली बात यह है कि यू.एस. एजेंसियों ने दावा किया है कि चीन पूरी कोशिश कर रहा है Joe Biden का समर्थन करने के लिए और रूस ये कोशिश कर रहा है कि Donald Trump इलेक्शन जीत जाए।


सवाल ये आता है कि चीन Joe Biden को सपोर्ट क्यों करेगा Joe Biden ने अभी तक जो अपनी पालिसी चीन के प्रति बताई है वह Donald Trump के पालिसी से काफी अलग ।उन्होंने ये कहा है कि हम चीन की आलोचना करते रहेंगे शिनजियांग के उइगर मुस्लिमों और हांगकांग के  कानूनी के खिलाफ। और हम Donald Trump के द्वारा किया गया Trade War चीन के प्रति तुरन्त ख़त्म कर देंगे और चीन के खिलाफ कोई Trade War नही होना चाहिए। पूरा डेमोक्रेट्स ये मानता है कि लंबे वक्त के लिए चीन US के लिए बहोत बड़ा खतरा है  अगर US के इकनोमिक को पुनर्जीवित करना है तो Trade War खत्म करना होगा। अगर Trade War खत्म होती है तो ये चीन के परिप्रेक्ष्य के लिए सकारात्मक खबर है। इसका मतलब यह नही है कि Joe Biden ज्यादा दयालु हो जायेगे चीन के प्रति पर उनका रुख Donald Trump से काफी नरम होगा।

निष्कर्ष ये है कि भारत को अपना रुख स्पष्ट करना चाहिए कि प्रधानमंत्री किसी भी उम्मीदवार का समर्थन नहीं करता है अमेरिकी चुनाव भारत दोनों राजनीतिक दलों को समान रूप से देखता है उनके साथ रणनीतिक संबंध बनाने की दिशा में काम करेगा । 

आज के लिए बस इतना अगर आप चाहते है कि ऐसे पोस्ट आगे भी आये तो कृपया सब्सक्राइब, Like और शेयर करे जिससे हमें मोटिवेशन मिलेगा अगला पोस्ट करने में।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ऑनलाइन पैसे कैसे कमाएं जाने पूरा डिटेल्स।How to make money online

Google Lens छात्रों (Students) के लिए होमवर्क (Homework) में मदद करने के लिए गणित (Maths) के लिये नया फीचर्स लाया है।

फ़ूड डिलीवरी कंपनी Swiggy और Zomato को Google ने जारी किया नोटिस । Google Play Store के नियमों का उल्लंघन (Violation) किया गया

banner